छत्तीसगढ़

सिर्फ बाक़ी रह गया बेलौस रिश्तों का फ़रेब… कुछ मुनाफिक हम हुए, कुछ तुम सियासी हो गये …

Ghoomata Darpan

सिर्फ बाक़ी रह गया बेलौस रिश्तों का फ़रेब... कुछ मुनाफिक हम हुए, कुछ तुम सियासी हो गये ...

नक्सलीगढ़ कांकेर में मुठभेड़ में 29 नक्सलियों को मार गिराया गया है,बी एसएफ,नक्सलियों के बीच कई घंटे तक मुठभेड़ चली, नक्सलियों के पास से भारी तादाद में हथियार बरामद किए गए हैं। एके-47, एल एमजी जैसे घातक हथियार भी शामिल हैं।इतिहास में छ्ग में किसी एक मुठभेड़ में नक्सलियों की सबसे अधिक मौत हुई हैं। साथ ही सुरक्षा बलों ने कुख्यात नक्सली शंकरराव को भी मारने में सफलता पाई है। दंडकारण्य डिवीजन में नक्सलियों का सबसे बड़ा कमांडर था।वो डिवीजन का मिलिट्री इंटेलिजेंसचीफ था,उसके सिर पर 25लाख रुपए का इनाम घोषित था। दहशत का दूसरा नाम भी उसे कहा जाता था।खूंखार नक्सली शंकर राव, एलएम जी,एके- 47 जैसे घातक हथियारों को चलाने में भी माहिर था,वो हर वक्त इन हथियारों को साथ रखता था।पिछले 15 वर्षों सेउसने आतंक का राज कायम कर रखा था, छग से तेलंगाना, ओड़िसा तक के जंगलों में उसकी तूती बोलती थी।वो कई बड़ी नक्सली वारदातों में शामिल था, जिसमें बड़ी संख्या में लोग मारे गए।छग के कांकेर जिले के थाना छोटेबेटिया के बिनागुंडा, कोरोनार के मध्य हापाटोला के जंगल में डी आर जी एवं बीएसएफ की संयुक्त पार्टी और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में 29 ढेर हो गए हैं। जवानों ने मारे गए सभी 29 नक्सलियों के शव बरा मद कर लिए हैं।मारे गये नक्सलियों में 25 लाख रुपये के इनामी कमांडर शंकर राव, महिला नक्सली ललिता के साथ राजू भी शामिल हैं। नक्सलियों के शवों के पास से सात एके 47, 3 एलएमजी, इंसास रायफल की बरामदगी की गई है।बस्तर के आईजी पी.सुंदरराज, एसपी आईके एलेसेला ने कहा है कि नक्सल विरोधी अभियान आगे भी चलता रहेगा।इधर देश के गृहमंत्री अमित शाह के अनुसार छग में भाजपा की सरकार बनने के बाद 80 नक्सली मारे गये तो 125 से अधिक नक्सलियों को गिरफ्तार किया गया है वहीं 150 से भी अधिक आत्मसमर्पण कर चुके हैं।

कश्मीर के बाद कटघोरा
में मिला लीथियम….

छग में पहली लीथियम खदान खुलने जा रही है, यह कोरबा के कटघोरा के ग्राम घुचापुर में 250 हेक्टे यर में है।जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया ने 80 फिट नीचे लीथियम मिलने की पुष्टि भी कर दी है,खान मंत्रालय ने तो नीलामी की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है। कहा जाता है कि निजी क्षेत्र की कम्पनी वेदांता,ओला जिंदल, श्रीसीमेंट, अडानी, अल्ट्राट्रेक आदि रुचि भी ले रहे हैं। यह बताना जरुरी है कि छत्तीसगढ़ के साथ देश में कश्मीर में ही लीथियम मिलने की पुष्टि हो चुकी है, कश्मीर में नीलामी प्रक्रिया तेज हो गई है।

नाना,माँ,भाई आईएएस,
तो पिता आईपीएस…..

सिर्फ बाक़ी रह गया बेलौस रिश्तों का फ़रेब... कुछ मुनाफिक हम हुए, कुछ तुम सियासी हो गये ...

यूपीएससी ने वर्ष-2023 की सिविल सेवा परीक्षा के नतीजे घोषित कर दिए हैं। पूर्व डीजी संजय पिल्ले एवं छत्तीसगढ़ में एसीएस रेणु पिल्ले की पुत्री अनुषा ने 202 रैंक हासिल किया है। पिछले वर्ष अनुषा के भाई ने भी आईएएस किया था , वे ओडिशा कैडर में कार्यरत हैं। उनके नाना आंध्रप्रदेश के मुख्य सचिव भी रह चुके हैं।रायपुर कलेक्टर गौरव सिंह ने अनुषा को आईए एस में चयनित होने पर घर जाकर बधाई दी। रायपुर के ही अभिषेक डॉगें को 452 वाँ रैंक मिला है। जशपुर की रश्मि पैकरा को 881वाँ रैंक हासिल हुआ है।

सेवानिवृत आईपीएस
सिँह फिर चर्चा में….

सिर्फ बाक़ी रह गया बेलौस रिश्तों का फ़रेब... कुछ मुनाफिक हम हुए, कुछ तुम सियासी हो गये ...

छत्तीसगढ़ में भाजपा की सरकार बनने के बाद एक अनिवार्य सेवानिवृत आईपी एस गुरविंदर पाल सिंह की सक्रियता चर्चा में है,जीपी सिंह के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के साथ चल रहे कई अन्य मामलों की वजह से सरकार ने उन्हें निलंबित किया था। राज्य सरकार ने अनिवार्य सेवा निवृत्ति के लिए केंद्र को फाइल भेज दी थी, बाद में केंद्र के अमित शाह के गृह मंत्रालय की रजामंदी पर जीपी सिंह को अनिवार्य सेवानिवृत कर दिया गया था। प्रदेश में बदले हालात में कहा जा रहा है कि छ्ग सरकार जीपी सिँह के सभी मामले वापस ले सकती है? लेकिन यह चर्चा भी है कि जिस केंद्र सरकार ने उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत किया था वही उसे पुनः बहाल करेगी ऐसा लगता तो नहीं है, लोस चुनाव के परिणाम का इंतजार है, कुछ भी हो सकता है, क्योंकि भाजपा के पास वैसे भी वशिंग मशीन है जिसमें कई नेता पाक साफ हो गये हैं यदि कोई अधिकारी भी हो जाए तो आश्चर्य नहीं होगा ?

सौम्या फिलहाल
जेल में ही रहेंगी….

सिर्फ बाक़ी रह गया बेलौस रिश्तों का फ़रेब... कुछ मुनाफिक हम हुए, कुछ तुम सियासी हो गये ...

कोल लेवी मामले में पिछले 16 महीनों से जेल में बंद सौम्या चौरसिया की जमा नत याचिका कोर्ट ने खरिज कर दी है। प्रवर्तन निदेशा लय (ईडी) के केस में जेल में बंद पूर्व सीएम भूपेश बघेल की उप सचिव रहीं सौम्या की जमानत 5 माह पूर्व सुप्रीम कोर्ट से खारिज हुई थी।सौम्या के वकीलों ने रायपुर में नए ग्राउंड केसाथ जमानत अर्जी लगाई थी। जिसमें सौम्या चौरसिया ने बच्चों की देखभाल करने के लिए कोर्ट से जमानत देने की अर्जी की थी। पक्ष सुनने के बाद कोर्ट ईडी से जरूरी दस्तावेज मंगाए थे। जानकारी मिली है कि ईडी ने ये दस्तावेज जमा कर दिए।कोयला घोटाला केस में नाम आने के बाद से सौम्या चौरसिया को निलं बित कर दिया गया था।

और अब बस….

0भाजपा के सूत्र भी मान रहे हैं कि कोरबा, कांकेर, महासमुंद,राजनांदगांव, जांजगीर लोस में कड़ा मुकाबला है?
0रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर में कॉंग्रेस को कोई खास उम्मीद नहीं है.?


Ghoomata Darpan

Ghoomata Darpan

घूमता दर्पण, कोयलांचल में 1993 से विश्वसनीयता के लिए प्रसिद्ध अखबार है, सोशल मीडिया के जमाने मे आपको तेज, सटीक व निष्पक्ष न्यूज पहुचाने के लिए इस वेबसाईट का प्रारंभ किया गया है । संस्थापक संपादक प्रवीण निशी का पत्रकारिता मे तीन दशक का अनुभव है। छत्तीसगढ़ की ग्राउन्ड रिपोर्टिंग तथा देश-दुनिया की तमाम खबरों के विश्लेषण के लिए आज ही देखे घूमता दर्पण

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button