छत्तीसगढ़

पूर्व सीएम भूपेश बघेल के दो करीबियों के यहां EOW की छापेमारी

भिलाई में कड़ी पुलिस सुरक्षा के बीच 2 जगहों पर जांच चल रही है

Ghoomata Darpan

भिलाई (घूमता दर्पण) : छत्तीसगढ़ में पिछली कांग्रेस सरकार में कथित कोयला और शराब घोटालों समेत विभिन्न घोटालों की जांच कर रही राज्य सरकार की एजेंसी ईओडब्ल्यू-एसीबी ने छापेमारी की है. ब्यूरो ने यह छापेमारी भिलाई में दो अलग-अलग जगहों पर की है. जिन लोगों पर छापेमारी की गई है, वे पूर्व सीएम भूपेश बघेल के करीबी बताए जा रहे हैं. अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि ये छापेमारी किस मामले में की गई है.

सूत्रों के मुताबिक ईओडब्ल्यू-एसीबी की टीम ने आज सुबह-सुबह न्यू खुर्सीपार और नेहरू नगर में छापेमारी की. खुर्सीपार में पप्पू बंसल और नेहरू नगर पूर्व निवासी विजय भाटिया के घर पर कार्रवाई चल रही है। बताया जा रहा है कि बंसल की लंबे समय से तलाश की जा रही थी. गौरतलब है कि शराब मामले की जांच फिलहाल EOW-ACB कर रही है. इस मामले में ब्यूरो ने कारोबारी अरविंद सिंह और अनवर ढेबर को गिरफ्तार किया है. कोर्ट के निर्देश पर दोनों को हिरासत में ले लिया गया है और पूछताछ की जा रही है. जांच एजेंसी के सूत्रों के मुताबिक भिलाई में छापेमारी अरविंद सिंह और अनवर ढेबर से पूछताछ के दौरान मिली जानकारी के आधार पर की गई है.

शराब घोटाले के आरोप में गिरफ्तार रायपुर मेयर एजाज ढेबर के भाई अनवर ढेबर और अरविंद सिंह अब 12 अप्रैल तक ईओडब्ल्यू-एसीबी की हिरासत में रहेंगे। दोनों आरोपियों की रिमांड अवधि पूरी होने पर ब्यूरो 8 अप्रैल को दोनों को रायपुर की विशेष अदालत में पेश किया। ब्यूरो ने आरोपियों से पूछताछ के लिए रिमांड बढ़ाने की मांग की, जिसे अदालत ने स्वीकार कर लिया।

*शराब और कोयला घोटाले में नई FIR: पूर्व मंत्री भगत, लखमा, पूर्व CS और 100 से ज्यादा लोगों के नाम, ED की अर्जी पर FIR दर्ज

छत्तीसगढ़ में कोयला और शराब घोटाले को लेकर दो अलग-अलग एफआईआर दर्ज की गई हैं. यह एफआईआर भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई करने वाली राज्य सरकार की एजेंसी एसीबी-ईओडब्ल्यू ने दर्ज की है. इसमें पिछली सरकार में आबकारी मंत्री रहे कवासी लखमा और तत्कालीन खाद्य मंत्री अमरजीत भगत समेत आधा दर्जन से ज्यादा कांग्रेस विधायक, अफसर और शराब (डिस्टिलरी) कारोबारी शामिल हैं.
सूत्रों के मुताबिक एसीबी-ईओडब्ल्यू ने यह एफआईआर केंद्रीय जांच एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के डिप्टी डायरेक्टर संदीप आहूजा के आवेदन के आधार पर दर्ज की है. दोनों एफआईआर 17 जनवरी, 2024 को दर्ज की गईं। एफआईआर नंबर 3/2024 और 4/2024 हैं। शराब घोटाले में एआईएस अधिकारी निरंजनदास, अनिल टुटेजा, उनके बेटे यश टुटेजा समेत एके त्रिपाठी, विवेक ढांड और तत्कालीन आबकारी मंत्री कवासी लखमा का नाम शामिल है. शराब घोटाले में अनवर ढेबर, अरविंद सिंह, विजय भाटिया समेत आबकारी विभाग के एक दर्जन से अधिक अधिकारी-कर्मचारी शामिल हैं. वहीं, सूर्यकांत तिवारी, सौम्या चौरसिया, आईएएस समीर, रानू साहू, प्रदेश कांग्रेस कोषाध्यक्ष रामगोपाल अग्रवाल, मंत्री अमरजीत भगत, विधायक देवेन्द्र यादव, तत्कालीन कांग्रेस विधायक शिशुपाल सोरी, चंद्रदेव राय, बृहस्पत सिंह,  समेत करीब 36 लोग शामिल हुए. कोयला घोटाले में यूडी मिंज, विनोद तिवारी, इदरीश गांधी और सुनील अग्रवाल को आरोपी बनाया गया है.

EOW raids at two close associates of former CM Bhupesh Baghel

Investigation is going on at 2 places in Bhilai amid tight police security.

Bhilai (Team GD News) : EOW-ACB, the state government agency investigating various scams including alleged coal and liquor scams in the previous Congress government in Chhattisgarh, has conducted raids . The bureau has conducted this raid at two different places in Bhilai. The people who have been raided are said to be close to former CM Bhupesh Baghel. It is not yet clear in which case these raids have been conducted.

According to sources, the EOW-ACB team raided New Khursipar and Nehru Nagar early this morning. Action is going on at the residence of Pappu Bansal in Khursipar and Vijay Bhatia, a resident of Nehru Nagar East. It is being told that Bansal was being searched for a long time. It is to be noted that EOW-ACB is currently investigating the liquor case. In this case, the Bureau has arrested businessmen Arvind Singh and Anwar Dhebar. On the instructions of the court, both have been taken into custody and are being questioned. According to sources in the investigation agency, the raid in Bhilai has been conducted on the basis of information received during the interrogation of Arvind Singh and Anwar Dhebar.

Anwar Dhebar and Arvind Singh, brothers of Raipur Mayor Ejaz Dhebar, who were arrested on charges of liquor scam, will now remain in the custody of EOW-ACB till April 12. On the completion of the remand period of both the accused, the Bureau presented both of them in the Special Court of Raipur on April 8. The Bureau sought extension of remand for interrogating the accused, which was accepted by the court.

*New FIR in liquor and coal scam: Former minister Bhagat, Lakhma, former CS and more than 100 others named, FIR registered on ED’s application

Two separate FIRs have been registered in Chhattisgarh regarding the coal and liquor scam. This FIR has been registered by ACB-EOW, the state government agency that takes action against corruption. It includes Kawasi Lakhma, who was the excise minister in the previous government, and the then food minister Amarjeet Bhagat, along with more than half a dozen Congress MLAs, officers and liquor (distillery) businessmen.
According to sources, ACB-EOW has registered this FIR on the basis of the application of Sandeep Ahuja, deputy director of the central investigation agency Enforcement Directorate (ED). Both the FIRs were registered on January 17, 2024. The FIRs are numbered 3/2024 and 4/2024. The names of AIS officer Niranjandas, Anil Tuteja, his son Yash Tuteja along with AK Tripathi, Vivek Dhand and the then Excise Minister Kawasi Lakhma are involved in the liquor scam. Anwar Dhebar, Arvind Singh, Vijay Bhatia along with more than a dozen officers and employees of the Excise Department are involved in the liquor scam. At the same time, about 36 people including Suryakant Tiwari, Saumya Chaurasia, IAS Sameer, Ranu Sahu, State Congress Treasurer Ram Gopal Agarwal, Minister Amarjeet Bhagat, MLA Devendra Yadav, then Congress MLA Shishupal Sori, Chandradev Rai, Brihaspat Singh, UD Minj, Vinod Tiwari, Idrish Gandhi and Sunil Agarwal have been made accused in the coal scam


Ghoomata Darpan

Ghoomata Darpan

घूमता दर्पण, कोयलांचल में 1993 से विश्वसनीयता के लिए प्रसिद्ध अखबार है, सोशल मीडिया के जमाने मे आपको तेज, सटीक व निष्पक्ष न्यूज पहुचाने के लिए इस वेबसाईट का प्रारंभ किया गया है । संस्थापक संपादक प्रवीण निशी का पत्रकारिता मे तीन दशक का अनुभव है। छत्तीसगढ़ की ग्राउन्ड रिपोर्टिंग तथा देश-दुनिया की तमाम खबरों के विश्लेषण के लिए आज ही देखे घूमता दर्पण

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button