छत्तीसगढ़

नज़र आती नहीं उसकी आँखों में तो ख़ुशहाली…. कहाँ तुम रात-दिन झूठे उन्हें सपने दिखाते हो….

वरिष्ठ पत्रकार शंकर पांडे की कलम से .....

Ghoomata Darpan

विश्व के सबसे बड़े लोक तंत्र में लोस चुनाव में सत्ता धारी दल ने न तो मंहगाई, गरीबी पर बात की, न ही बेरोजगारी पर कोई बात की मुजरा,मुग़ल,मुसलमान राममंदिर के साथ ही भाज पा नेताओं के चुनाव के ज्व लंत मूद्दे रहे वह थे….वो आप की एक भैंस छीन लेंगे, आपका मंगलसूत्र छीन लेंगे,वो मांस मछली खाते हैं, वो आपका एक कमरा छीन लेंगे,वो आप का बैंक खाता बंद कर देंगे, बिजली का कनेक्शन काट देंगे,वो आपका पानी काट कर नल चुरा लेंगे,वह राम मंदिर में ताला लगा देंगे…?

लोस चुनाव में उपलब्धि
नहीं आरोप का दौर रहा?

नज़र आती नहीं उसकी आँखों में तो ख़ुशहाली.... कहाँ तुम रात-दिन झूठे उन्हें सपने दिखाते हो....

देश में 2 बार भाजपा की सरकार नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में बन चुकी है। मोदी अब नेहरू, इंदिरा गांधी की लीग में शामिल होने प्रयासरत हैं, देश के पहले पीएम नेहरू ने 1952, 1957 तथा 1962 में क्रमश: 364,371 तथा 361 लोस सीटे कांग्रेस को दिलाकर सरकार का नेतृत्व किया, वहीं 1967, 1971 में लगातार 2 बार 283 तथा 352 लोस क्षेत्रों में कांग्रेस के विजयी होने के बाद इंदिरा गांधी ने पीएम का दायित्व सम्हाला था। 1980 में पुन: पीएम बनी।वहीं वर्तमान पीएम नरेन्द्र मोदी,गैर कांग्रेसी भाजपा के लिए रिकार्ड बना लिया है। 2014 के लोस चुनाव में भाजपा को 282 (स्पष्ट बहुमत)मिला और 2019 के लोस चुनाव में भाजपा को 303 लोस क्षेत्रों में जीत मिली थी। वे 2024 के लोस चुनाव में भाजपा की सरकार बना कर फिर पीएम बन कर नेहरू-इंदिरा की बराबरी करने प्रयत्नशील हैं। विपक्ष की सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस 2014 के लोस चुनाव में 44 तथा 2019 के लोस चुनाव में 52 सीटें पाकर लोस में नेता प्रतिपक्ष के संवैधानिक दर्जा से वंचित हो गई थी ज्ञात रहे किलोक सभा की कुल सीटें में 10% यानि 54 सीटें हासिल होने पर ही नेता प्रतिपक्ष का दर्जा मिलता है।लोकसभा 20 14 में भाजपानीत एनडीए ने स्वीप किया था। हालांकि 2014 के चुनाव में भाजपा के किये वायदे 15 लाख सभी के खाते में, 2 करोड़ लोगों को प्रतिवर्ष रोजगार, कालाधन लाने आदि मेंकोई वादा पूरा नहीं किया? पर 2019 के लोस चुनाव में पुलवामा हमला, पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक से जोड़ कर राष्ट्रवाद, राष्ट्र का स्वाभिमान, मोदी है तो देश सुरक्षित है आदि नारों के चलते देश के अधिकांश मतदाताओं को अपने से जोडऩे में सफलता पाई जिसमें पहली बार मतदान करने वाले युवा,महिला मतदाता का वर्ग शामिल रहा। 2024 के चुनाव में भाजपा की मोदी सरकार ने अपनी 10 सालों की उपलब्धियों की जगह विपक्ष पर आरोप -प्रत्यारोप पर ही लगी रही। हिन्दु- मुसलमान, राममंदिर निर्माण, कश्मीर में धारा 370 की समाप्ति, तीन तलाक,आर क्षण भी बड़ा मुद्दा रहा….?

सीएम पटनायक और
पूर्व नौकरशाह पांडियन?

नज़र आती नहीं उसकी आँखों में तो ख़ुशहाली.... कहाँ तुम रात-दिन झूठे उन्हें सपने दिखाते हो....

ओडिशा में लोक,विधान सभा चुनावों के लिए प्रचार अंतिम दौर में है। बीजेडी में नंबर दो की हैसियत रखने वाले पूर्व नौकरशाह वी के पांडियन का एक वीडियो, सीएम का हाथ कैमरे से छिपाने पर घिर गए हैं।भाजपा ने इस वीडियो को साझा करते हुए बीजेडी पर हमला बोला है। मूलरूप से तमिलनाडु के रहने वाले पांड्यन का जन्म 29 मई, 1974 को हुआ। पहले मदुरै के तमिलनाडु कृषि विवि से ग्रैजुएशन किया फिर नई दिल्ली के कृषि अनुसंधान संस्थान से मास्टर्स। साल 2000 में आईएएस बनगए ओडिशा काडर के अलग- अलग पदों पर रहे। करियर की शुरुआत उन्होंने कालाहांडी ज़िले में बतौर डिप्टी- कलेक्टर की।बाद में वो मयूरभंज, गंजम ज़िले के कलेक्टर रहे, गंजम, नवीन बाबू का गृह ज़िला है। सूबे की राजनीति बूझने वाले बताते हैं कि इसी के बाद से नवीन से क़रीबी शुरू हुई । समय के साथ पांड्यन प्रमोट होते गए। फिर 2011 में नवीन के निजी सचिव बने, और तब से ओडिशा की राजनीति का ‘अनिवार्य चैप्टर’ बन गए हैं। उनकी पत्नी सुजाता कार्तिकेयन भी 2000 बैच की आईएएस हैं। कमिश्नर (मिशन शक्ति) थीं, 2 मई, 2024 को चुनाव आयोग ने उन्हें ग़ैर-सार्वजनिक विभाग में ट्रांसफ़र करने का आदेश दिया था।

छ्ग की 11लोस सीट
और दावा……?

छत्तीसगढ़ लोकसभा की 11 सीटों का परिणाम 4 जून को आ जाएगा,उसे लेकर दावे-प्रतिदावे का दौर शुरू है। भाजपा का दावा है कि सभी 11सीटों पर जीत होगी पर ऐसा लगता नहीं है? पिछली बार मोदी लहर में भी भाजपा को 9 सीटें मिली थी। इस बार कॉंग्रेस ने भाजपा के मुकाबले वजनदार प्रत्याशी दिये हैं। पूर्व सीएम भूपेश बघेल चुनाव समर में उतरे थे, वैसे इस बार कॉंग्रेस अपना 2 लोस का रिकार्ड तोड़ने का भी दावा कर रही है। कांग्रेस को राजनांदगांव, बस्तर, जांजगीर,कांकेर,महासमुंद, कोरबा लोस से अधिक उम्मीद है?

उपचुनाव और मंत्री
पद की चर्चा तेज…?

 

नज़र आती नहीं उसकी आँखों में तो ख़ुशहाली.... कहाँ तुम रात-दिन झूठे उन्हें सपने दिखाते हो....

लोस चुनाव में रायपुर से भाजपा के उम्मीदवार बृजमोहन अग्रवाल की जीत पर कोई संदेह ही नहीं है, अभी रायपुर दक्षिण के विधायक, छ्ग सरकार के शिक्षा मंत्री हैं, जाहिर है कि उन्हें शिक्षा मंत्री पद से इस्तीफा देना होगा, वहीं छ्ग में मंत्री का एक पद भी अभी रिक्त है,ऐसे में 2 नये मंत्री भी बनेंगे यह तय है।एक-दो मंत्री की शिकायत भी सरकार के पास पहुंची है।सतनामी समाज से एक तथा संघ परिवार, पिछडी जाति के एक विधायक को मंत्री बनाने की चर्चा है। इधर विस उपचुनाव को लेकर भी चर्चा है, विधायक बृजमोहन अग्रवाल के साथ ही छ्ग के भूपेश बघेल, क़वासी लखमा, देवेंद्र यादव भी चुनाव समर में हैं, इनके जीतने पर भी उप चुनाव होना तय है।

और अब बस….

  • लारेंस गिरोह की भी छ्ग में इंट्री हो गई थी, भला हो एसएसपी संतोष सिँह का… वारदात को अंजाम देने के पहले ही शूटरों को पकड़ लिया…!
  • ज़ब से भाजपा की सरकार बनी है सड़क दुर्घटना तेज हो गई है…?
  • बेमेतरा बारूद दुर्घटना के इतने दिनों बाद एफआई आर दर्ज होना समझ के परे है….?
  • किस मंत्री ने कलेक्टर के साथ निकलने पर भाजपा समर्थकों को बीच से ही लौटा दिया…?

Ghoomata Darpan

Ghoomata Darpan

घूमता दर्पण, कोयलांचल में 1993 से विश्वसनीयता के लिए प्रसिद्ध अखबार है, सोशल मीडिया के जमाने मे आपको तेज, सटीक व निष्पक्ष न्यूज पहुचाने के लिए इस वेबसाईट का प्रारंभ किया गया है । संस्थापक प्रधान संपादक प्रवीण निशी का पत्रकारिता मे तीन दशक का अनुभव है। छत्तीसगढ़ की ग्राउन्ड रिपोर्टिंग तथा देश-दुनिया की तमाम खबरों के विश्लेषण के लिए आज ही देखे घूमता दर्पण

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button