छत्तीसगढ़

डाॅ संजय अलंग के आतिथ्य में होगा 16 सितम्बर को होगा कोरिया साहित्य महोत्सव का आगाज

क्षेत्र की विभिन्न कला प्रतिभाओं के साथ दो दिवस तक साहित्य की विधाओं पर होंगी प्रस्तुतियां, पांच परिचर्चा सत्र, गायन सत्र, नृत्य सत्र के साथ ही विद्वान कवियों का काव्य पाठ होगा आकर्षण

Ghoomata Darpan

डाॅ संजय अलंग के आतिथ्य में होगा 16 सितम्बर को होगा कोरिया साहित्य महोत्सव का आगाजबैकुण्ठपुर दिनांक 15/9/23 – कोरिया जिले में दो दिवसीय कोरिया साहित्य महोत्सव कोसम का आयोजन कल जिला मुख्यालय बैकुंठपुर के ऑडिटोरियम में प्रारंभ होने जा रहा है। टीम अभिव्यक्ति ने इस साहित्य समागम में समस्त साहित्य प्रेमियों की उपस्थिति का आवाहन किया है। कोरिया जिला मुख्यालय में साहित्य, कला एवं संस्कृति के क्षेत्र में कार्य करने के लिए प्रतिबद्ध संस्था अभिव्यक्ति द्वारा कोरिया जिले में पहली बार कोरिया साहित्य महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य हिन्दी साहित्य के प्रेमियों के समागम के साथ स्थानीय प्रतिभाओं और नई प्रतिभाओं को मंच प्रदान करना है। इस संबंध में जानकारी देते हुए टीम के सदस्यों ने बताया कि पहले दिन 16 सितम्बर को डाॅ संजय एलंग की मुख्य अतिथि के आसंदी पर उपस्थिति रहेगी। साथ ही हिन्दी के कई मूर्धन्य विद्वान भी इस आयोजन में अपनी उपस्थिति देंगे। आयोजक टीम ने बताया कि पहले दिन अविभाजित कोरिया के 47 साहित्यकारों की प्रतिनिधि रचनाओं का प्रथम संकलन कोसम प्रथम संस्करण 2023 का विमोचन होगा। इसके बाद टैब के जमाने में हिंदी विषय पर परिचर्चा का आयोजन किया जाएगा। इसमें लाहिड़ी कालेज के पूर्व प्राचार्य डाॅ भागवत प्रसाद दुबे, सूरजपुर पीजी कालेज के हिंदी विभागाध्यक्ष प्रोफेसर बृजलाल साहू, रामानुज पीजी कालेज के हिंदी विभागाध्यक्ष डा विनय शुक्ला, डाॅ बृजेश पाण्डेय,  राजीव लोचन त्रिवेदी इस परिचर्चा मे हिस्सा लेंगे। वरिष्ठ हिन्दी विद् व लाहिड़ी कालेज के प्राचार्य डाॅ राम किंकर पाण्डेय इस परिचर्चा सत्र का संचालन करेंगे। इस सत्र के बाद स्थानीय प्रतिभाओं को मंच प्रदान किया जाएगा। फिर छत्तीसगढ़ी साहित्य, लोक कला संस्कृति और इतिहास पर डाॅ संजय अलग मुख्य वक्ता के तौर पर परिचर्चा का हिस्सा होंगे। इसमें कोरिया के इतिहास पर शोध कर चुके राज्य अलंकरण से सम्मानित डाॅ विनोद पाण्डेय सहित डाॅ सपन सिन्हा,  वीरेन्द्र श्रीवास्तव, लोक कलाकार लक्ष्मी करियारे और सूरज श्रीवास उपस्थित रहेंगे। इस सत्र का संचालन प्रोफेसर एम सी हिमधर करेंगे। साथ ही इस आयोजन में डाॅ संजय अलंग का एकल कविता पाठ सत्र भी आयोजित किया जाएगा।
पहली बार साहित्य कला व संस्कृति के लिए हो रहे इस विशद आयोजन में दूसरे दिन का शुभारंभ पूरे प्रदेश की विभिन्न प्रतिभाओं के ओपन माइक सत्र से होगा। इसके लिए आई लगभग सौ प्रस्तुतियों में से कुल 20 प्रतिभाओं को मंच पर प्रस्तुति का अवसर प्रदान किया जा रहा है। सभी को आयोजन में हिस्सेदारी के लिए रूकने, भोजन की व्यवस्था टीम द्वारा निशुल्क की गई है। ओपन माइक सत्र के बाद स्थानीय लेखक संवर्त कुमार की नई पुस्तक रूपहला का विमोचन किया जाएगा। इसके बाद रामचरित मानस पर विद्वानों के बीच परिचर्चा का आयेाजन होगा। इस सत्र का संचालन हरिकांत अग्निहोत्री करेंगे। इस सत्र के बाद साहित्यकारों का काव्य पाठ होगा। गजल की विधा में दो स्थानीय कलाकारों की प्रस्तुति होंगी इसमें मनेन्द्रगढ़ की ख्यातिलब्ध नवोदित कलाकार गुरषीत कौर भी शामिल होेंगी। इस कार्यक्रम के बाद अविभाजित कोरिया जिले में पर्यटन की संभावनाओं पर परिचर्चा का आयोजन होगा। इसमें कलेक्टर कोरिया  विनय लंगेह, कलेक्टर एमसीबी  नरेन्द्र कुमार दुग्गा, जिला पंचायत सीइओ डाॅ आशुतोष चतुर्वेदी, महाप्रबंधक बैकुंठपुर क्षेत्र  बी एन झा व हसदेव क्षेत्र के महाप्रबंधक भी शामिल होंगे। परिचर्चा के बाद अविभाजित कोरिया जिले में लंबे समय से मीडिया क्षेत्र मे कार्य कर रहे मीडिया प्रतिनिधियों के बीच हिंदी विषय पर परिचर्चा का आयोजन किया जाएगा। इसमें वरिष्ठ पत्रकार  उत्तम कश्यप,  चंद्रकांत पारगीर,  नीलेश तिवारी, योगेश चन्द्रा, प्रवींद्र सिंह, अनूप बडे़रिया,  सतीश गुप्ता, रामचरित दिवेदी और  दुष्यंत कुमार उपस्थित रहेंगे। सत्र के अंत में उपस्थित साहित्यकारों का काव्य पाठ होगा और कोरिया साहित्य महोत्सव के नाम पर तीन साहित्यकारों का कोसम अलंकरण समारोह आयोजित होगा। इसके बाद पूरे आयोजन में सहभागिता देने वाले कलाकारों को सम्मानित किया जाएगा। टीम अभिव्यक्ति ने पूरे क्षेत्र के साहित्य प्रेमियों से कोरिया साहित्य महोत्सव के इस आयेाजन में सहभागिता का अनुरोध किया है।


Ghoomata Darpan

Ghoomata Darpan

घूमता दर्पण, कोयलांचल में 1993 से विश्वसनीयता के लिए प्रसिद्ध अखबार है, सोशल मीडिया के जमाने मे आपको तेज, सटीक व निष्पक्ष न्यूज पहुचाने के लिए इस वेबसाईट का प्रारंभ किया गया है । संस्थापक संपादक प्रवीण निशी का पत्रकारिता मे तीन दशक का अनुभव है। छत्तीसगढ़ की ग्राउन्ड रिपोर्टिंग तथा देश-दुनिया की तमाम खबरों के विश्लेषण के लिए आज ही देखे घूमता दर्पण

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button