छत्तीसगढ़

अब मायूस क्यूँ हो उसकी बेवफाई पर …. खुद ही तो कहते थे की वो सबसे जुदा है….

Ghoomata Darpan

अब मायूस क्यूँ हो उसकी बेवफाई पर .... खुद ही तो कहते थे की वो सबसे जुदा है....

छत्तीसगढ़ की राजनीति में 2023 के विधानसभा चुनाव के बाद सत्ता और विपक्ष के प्रमुख पदों पर केंद्र सरकार में राज्य मंत्री रहे अनुभवी नेताओं के हांथों नेतृत्व है।विधानसभा अध्यक्ष डॉ रमन,सीएम विष्णुदेव साय तथा नेता प्रतिपक्ष डॉ चरणदास महंत तीनों अटलजी,नरेंद्र मोदी तथा डॉ मनमोहन सिंह के मंत्रिमंडल का हिस्सा रह चुके हैँ।डा.रमन सिंह एक आयुर्वेदिक डॉक्टर होने के साथ ही छग के 15 सालों तक सीएम रहे हैं।रमन सिंह ने राजनीति पारी की शुरू आत जनसंघ के यूथ विंग से की थी। इन्होंने कवर्धा की नगर पालिका में वार्ड मेंबर,विधायक,संसद में बहुत से महत्वपूर्ण पद संभाले है।1999 में संसद के सदस्य रहते हुएअटलजी के मंत्रिमंडल में वाणिज्य राज्य मंत्री के तौर भी काम किया है।साथ ही इन्होंने देश को इज़राइल,नेपाल, फिलिस्तीन और दुबई में भारतीय व्यापार मेले का नेतृत्व भी किया है।इधर छग के चौथे सीएम विष्णु देव साय बने हैं।उन्होंने 2020 से 2022 तक भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष के रूप में भी कार्य किया।वे मोदी के 2014-2019के पहले मंत्रिमंडल में केंद्रीय इस्पात राज्य मंत्री थे। कुन कुरी निर्वाचन क्षेत्र का प्रति निधित्व करने वाले 16वीं लोकसभा के सदस्य थे।
पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ चरण दास महंत को छग विस में नेता प्रतिपक्ष बनाया गया है।पूर्व केंद्रीय मंत्री डा. महंत कांग्रेस का एक बड़ा चेहरा हैं।भूपेश सरकार में वह विस अध्यक्ष कादायित्व संभाल रहे हैँ ।2009 में 15वीं लोकसभा के लिए वह प्रदेश से अकेले कांग्रेसी लोकसभा सदस्य चुने गए थे।वर्तमान में सक्ती से विधायक हैं।महंत का राजनीतिक सफर मप्र विधानसभा से शुरू हुआ।1980 से 1990 तक दो कार्यकाल में विधायक रहे।1993 से 1998 के बीच वह मप्र सरकार में मंत्री रहे।1998 में उन्हें 12वीं लोकसभा के लिए चुना गया।1999 में भी13वीं लोकसभा के लिए वे चुने गए। 2009 में वह 15वीं लोकसभा के लिए भी चुने गए। महंत ने केंद्र में डॉ मनमोहन सिंह सरकार में राज्य मंत्री,उद्योग खाद्यऔर प्रसंस्करण का पदभार भी संभाल चुके हैँ।

साय की टीम बनी,फिर
भाजपा ने चौँकाया…?

अब मायूस क्यूँ हो उसकी बेवफाई पर .... खुद ही तो कहते थे की वो सबसे जुदा है....

छत्तीसगढ़ की विष्णुदेव साय सरकार के 9 मंत्रियों ने शपथ ली है।अब साय मंत्रिमंडल में जातिगत समीकरण देखा जाए तो सीएम सहित रामविचार नेताम और केदार कश्यप एस सी वर्ग से हैं तो डिप्टी सीएम विजय शर्मा सहित वरिष्ठ विधायक बृजमोहन अग्रवाल सामान्य वर्ग से हैं।एससी वर्ग से केवल एक दयाल दास बघेल को शामिल किया गया है तो पिछड़ा वर्ग से डिप्टी सीएम अरुण साव सहित 6लोग लखन लाल देवांगन,ओपी चौधरी,श्यामबिहारी जाय सवाल, टँकराम वर्मा और लक्ष्मी राजवाड़े शामिल किये गये हैं।वैसे सीएम चयन में जैसे भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने चौँकाया था वैसे ही मंत्रि मंडल में भी भाजपा के धरमलाल कौशिक,अमर अग्रवाल, अजय चंद्राकर,राजेश मुणत,लता उसेंडी, रेणुका सिंह,गोमती साय आदि को शामिल नहीं करना भी चर्चा में है।

किरणदेव बने भाजपा
अध्यक्ष,अरुण को
हटाने की जल्दी क्या थी.?

अब मायूस क्यूँ हो उसकी बेवफाई पर .... खुद ही तो कहते थे की वो सबसे जुदा है....

छग में भाजपा की सरकार बन गई और चुनाव के कुछ समय पहले बने प्रदेश अध्यक्ष अरुण साव को डिप्टी सीएम बनाया गया है और उनके स्थान पर जगदलपुर के विधायक तथा पूर्व महापौर किरण देव को नया प्रदेश अध्यक्ष बना दिया गया है।वैसे संभवत:अरुण साव का इतने कम समय का प्रदेश अध्यक्ष बनने का रिकार्ड बन गया है। लोकसभा चुनाव तक इन्हें रखा जा सकता था,डिप्टी सीएम तो वे लोस चुनाव के बाद भी बनाये जा सकते थे।पर अचानक उन्हें डिप्टी सीएम बनाकर,प्रदेश अध्यक्ष पद से इतनी जल्दी हटाने के पीछे क्या कारण है?यह तो भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व या संघ ही अच्छे से जनता होगा?

आईएएस दयानन्द
सीएम के सचिव….

अब मायूस क्यूँ हो उसकी बेवफाई पर .... खुद ही तो कहते थे की वो सबसे जुदा है....

मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय ने तेजतर्रार आईएएस पांडे दयानंद को सेक्रेटरी बनाया गया है।वहीं सीएम के ओएसडी तय हो गए हैं।पी. दयानंद मूलतः बिहार राज्य के सासाराम जिले के रहने वाले है।वह 2006 बैच के छग कैडर के आईएएस है। बिलासपुर, कोरबा,कवर्धा और सुकमा यानि चार जिलों की कमान भीसम्हाल चुके है।उन्हें नक्सल क्षेत्र में काम करने का भी अनुभव है।आईएएस प्रशिक्षु अवधि दंतेवाड़ा जिला पंचायत में सीईओ रहते हुए पूरा किया था।इसके बाद वह सुकमा के कलेक्टर बने।उन्होंने एजुकेशन हब की नींव रखी।तेज तर्रार अफसरों में गिने जाते रहे है।वे भाजपा के एक बड़े राष्ट्रीय नेता के भतीजी दामाद हैं ऐसा पता चला है?राज्य शासन द्वारा मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय के विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी के रूप में राज्य प्रशासनिक सेवा के डॉ सुभाषसिंह राज निजी स्थापना में ओएसडी रूप में उमेश अग्रवाल दिल्ली,रवि कांत मिश्रा तथा निज सचिव के रूप में दीपक अंधारे को पदस्थ किया गया है।

धान खरीदी,जांजगीर पुलिस
की अच्छी पहल…..

अब मायूस क्यूँ हो उसकी बेवफाई पर .... खुद ही तो कहते थे की वो सबसे जुदा है....

भाजपा की सरकार राज्य में बन गई है,अपने घोषणा पत्र के अनुसार धान 3100/₹में खरीदने की शुरुआत हो गई है।भूपेश सरकार 25से 2600में खरीदी करती थी।जाहिर है कि किसानों के पास अब अधिक राशि आएगी। ऐसे में किसानों को अपनी मेहनत की राशि सुरक्षित रखने सतर्कता की जरूरत होगी। जांजगीर पुलिस के मुखिया,छत्तीसगढ़िया एसपी विजय अग्रवाल ने पोस्टर जारी कर किसानों को सतर्क करने का प्रयास किया है।पुलिस ने जिले के शहरी,ग्रामीण क्षेत्रों के सार्व जनिक स्थानों पर पोस्टर को चस्पा भी करवाया है।यह सराहनीय पहल तो है ही साथ में पुलिस का समाज के सरोकार से जुड़ने का भी एक बड़ा उदाहरण है।

और अब बस…

0छ्ग में कोई पूर्व सीएम पहली बार विस अध्यक्ष बने हैँ ।
0रामविचार नेताम छ्ग के पहले भाजपा के प्रोटम स्पीकर बने।
0कभी किसी मंत्री के
पीए थे,अब उसी मंत्री के साथ ही मंत्री पद की शपथ भी ली है।


Ghoomata Darpan

Ghoomata Darpan

घूमता दर्पण, कोयलांचल में 1993 से विश्वसनीयता के लिए प्रसिद्ध अखबार है, सोशल मीडिया के जमाने मे आपको तेज, सटीक व निष्पक्ष न्यूज पहुचाने के लिए इस वेबसाईट का प्रारंभ किया गया है । संस्थापक संपादक प्रवीण निशी का पत्रकारिता मे तीन दशक का अनुभव है। छत्तीसगढ़ की ग्राउन्ड रिपोर्टिंग तथा देश-दुनिया की तमाम खबरों के विश्लेषण के लिए आज ही देखे घूमता दर्पण

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button