छत्तीसगढ़

विवेकानन्द महाविद्यालय में शिक्षक दिवस पर छात्र-छात्राओं ने किया शिक्षकों का सम्मान

Ghoomata Darpan

विवेकानन्द महाविद्यालय में शिक्षक दिवस पर छात्र-छात्राओं ने किया शिक्षकों का सम्मान

विवेकानन्द महाविद्यालय में शिक्षक दिवस पर छात्र-छात्राओं ने किया शिक्षकों का सम्मान

मनेन्द्रगढ़। एमसीबी।  शासकीय विवेकानन्द स्नातकोत्तर महाविद्यालय में भारत के पूर्व राष्ट्रपति सर्वपल्ली डॉ. राधाकृष्णन के जन्मदिवस को भारतवर्ष में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। आज इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त छात्र-छात्राओं के द्वारा शिक्षक सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. सरोजबाला श्याग विश्नोई के द्वारा डॉ. राधाकृष्णन के छायाचित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। ततपश्चात् छात्र-छात्राओं ने उपस्थित सभी प्राध्यापकों एवं अतिथि व्याख्याताओं को पुष्पगुच्छ भेंटकर सम्मानित किया। प्राचार्य डॉ. विश्नोई ने अपने उद्बोधन में बताया कि भारत में शिक्षक दिवस सबसे पहले वर्ष 1965 में मनाया गया था। उन्होनें बताया कि डॉ. राधाकृष्णन के उपराष्ट्रपति बनने के बाद कुछ छात्रों ने मिलकर उनका जन्मदिन मनाना चाहा था, जिसे सुनते ही डॉ. राधाकृष्णन ने कहा कि मेरा जन्मदिवस मनाने से अच्छा है देशभर में शिक्षक दिवस मनाया जाये तो मुझे गर्व होगा। तब से आज तक हर वर्ष देशभर के शैक्षणिक संस्थानों में 05 सितम्बर को शिक्षक दिवस मनाने की परंपरा है।

विवेकानन्द महाविद्यालय में शिक्षक दिवस पर छात्र-छात्राओं ने किया शिक्षकों का सम्मान

डॉ. विश्नोई ने आगे बताया कि शिक्षक दिवस के दिन हम सभी अपने शिक्षकों को याद करते है जिन्होनें हमें सही मार्ग पर चलना सिखाया, सही-गलत की पहचान करवाई। माता-पिता हमें जन्म देते है लेकिन सही-गलत का फर्क शिक्षक ही हमें सिखाते है। शिक्षक के द्वारा बताये गये मार्ग का अनुसरण कर ही हम अपने लक्ष्य को प्राप्त करते हैं एवं हमारे चरित्र निर्माण में उनके द्वारा प्रदत्त ज्ञान की महती भूमिका होती है। यही कारण है कि शिक्षकों का स्थान ईश्वर से भी ऊपर बताया गया है। अतः शिक्षकों के इस योगदान के लिए हमें अपने शिक्षकों को नमन करना चाहिए और उन्हें आदर व सम्मान देना चाहिए। प्राचार्य डॉ. विश्नोई ने अंत में बताया कि आज मैं जिस मुकाम पर हूँ अपने गुरूओं के बदौलत ही हूँ। आज आप सभी छात्र-छात्राओं का प्रेम-सम्मान पाकर हम सभी शिक्षकगण अभिभूत है। मैं आप सभी के उज्ज्वल भविष्य की हार्दिक कामना करती हूँ।

विवेकानन्द महाविद्यालय में शिक्षक दिवस पर छात्र-छात्राओं ने किया शिक्षकों का सम्मान

कार्यक्रम में उपस्थित प्राध्यापकगण  सुशील कुमार तिवारी, डॉ. अरूणिमा दत्ता,  रंजीतमणी सतनामी, डॉ. नसीमा बेगम अंसारी, श्रीमती स्मृति अग्रवाल, श्रीमती अनुपा तिग्गा,  सुनील कुमार गुप्ता,  कमलेश पटेल,  पुष्पराज सिंह,  रामनिवास गुप्ता, डॉ. रेनु प्रजापति, डॉ. मुकेश कुमार मिश्रा, डॉ. रामजी गर्ग,  शुभम गोयल, श्रीमती रेखा सिंह, श्रीमती नीलम द्विवेदी, कु. अंकिता चटर्जी,  अवनीश गुप्ता एवं कार्यालयीन स्टॉफ मनीष कुमार श्रीवास्तव, सुनीत जाँनसन बाड़ा,  पी.एल. पटेल,  रामखेलावन गुप्ता, श्रीमती मीना त्रिपाठी,  कमलू सिंह मार्को,  हेमन्त सिंह, कु. साधना बुनकर,  प्रदीप कुमार मलिक,  सतीश सोनी एवं छात्र-छात्राओं में सत्येन्द्र, मो. हिमांशु, महफूज आलम, अमृता, सुमित सिंह,अरमान मिंज, पूजा ठाकुर, अमित यादव, शुभम तिवारी, आशिया शेख, नीलावती, सारिका पाठक, बालकृष्ण सहित छात्र-छात्रायें बड़ी संख्या में उपस्थित रहे।


Ghoomata Darpan

Ghoomata Darpan

घूमता दर्पण, कोयलांचल में 1993 से विश्वसनीयता के लिए प्रसिद्ध अखबार है, सोशल मीडिया के जमाने मे आपको तेज, सटीक व निष्पक्ष न्यूज पहुचाने के लिए इस वेबसाईट का प्रारंभ किया गया है । संस्थापक संपादक प्रवीण निशी का पत्रकारिता मे तीन दशक का अनुभव है। छत्तीसगढ़ की ग्राउन्ड रिपोर्टिंग तथा देश-दुनिया की तमाम खबरों के विश्लेषण के लिए आज ही देखे घूमता दर्पण

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button