छत्तीसगढ़

संकुल केंद्र बुंदेली में संकुल अंतर्गत नव पदस्थ शिक्षक शिक्षिकाओं का अभूतपूर्व स्वागत एवं सेवानिवृत्त हुए शिक्षक शिक्षिकाओं का सम्मान

Ghoomata Darpan

संकुल केंद्र बुंदेली में संकुल अंतर्गत नव पदस्थ शिक्षक शिक्षिकाओं का अभूतपूर्व स्वागत एवं सेवानिवृत्त हुए शिक्षक शिक्षिकाओं का सम्मान

मनेन्द्रगढ़।एमसीबी। संकुल केंद्र बुंदेली में संकुल अंतर्गत नव पदस्थ शिक्षक शिक्षिकाओं का अभूतपूर्व स्वागत एवं सेवानिवृत्त हुए शिक्षक शिक्षिकाओं का सम्मान कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में नवीन शिक्षकों में मा शा बुंदेली से  अमन केसरवानी,कु.खुशबू वर्मा प्रा.शा. दक्षिण पारा से कृष्ण कुमार साहू,मा.शा. बंजी से श्रीमती मधु राजपूत, वंदना वर्मा आश्रम शाला बंजी से सुशील कुमार वर्मा,केजीव्हीवी.से कु.चित्रा तिवारी का संकुल के वरिष्ठ शिक्षकों द्वारा पुष्प माला एवं स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित कर उनका उत्साहवर्धन किया गया। संकुल समन्वयक बृजेश शर्मा ने सभी नव शिक्षकों को बधाई देते हुए अपना बेहतर करने की अपील की।हायर सेकंडरी स्कूल के व्याख्याता  संजय ताम्रकार ने इस कार्यक्रम को अभूतपूर्व बताते हुए कहा कि शिक्षक का पेशा केवल शैक्षिक कार्य तक ही सीमित नहीं वरन् यह व्यवहार और नैतिक दायित्व भी है शिक्षक के लिए अपने स्वयं के आचरण और व्यवहार का आंकलन भी आवश्यक है। प्राथमिक शाला बुंदेली के प्रधान पाठक  गुलाब पैकरा ने सभी नव शिक्षकों को संदेश दिया कि सम्मान प्राप्त करने के लिए सम्मान देना जरूरी है। दक्षिण पारा के प्रधान पाठक  नाभाग सिंह ने अपेक्षा की कि सभी ने शिक्षक एक टीम भावना के साथ विद्यालय के लिए संगठित प्रयास कर छात्र हित में काम करेंगे। प्राचार्य हाई स्कूल बंजी  उत्तरा महर्षि ने शिक्षकों को अपने सहयोगियों के साथ मिलकर सहयोग करने की बात कही। सेवा निवृत्त प्रधान पाठक  परमेश्वर सिंह ने अपने संबोधन में बताया कि पुराने समय में विद्यालयों में पर्याप्त व्यवस्था नहीं होती थी परन्तु आज पर्याप्त व्यवस्थाएं उपलब्ध है,आप अपने ज्ञान को छात्रों को बांटे,नव प्रयोगों के साथ शिक्षण कार्य करें तभी शिक्षक की सार्थकता है उन्होंने अपने शिक्षकीय जीवन के के ई अनुभव साझा किए। संकुल प्राचार्य  अय्यूब लाल ने सभी नव शिक्षकों को बधाई देते हुए कहा कि शिक्षक अपने छात्रों से हृदय से जुड़े ग्रामीण क्षेत्र और शहरी क्षेत्र में अंतर होता है छात्र के परिवेश अनुसार उसे शिक्षण और व्यवहार सिखाएं, संकुल के सभी शिक्षकों के साथ मधुर संबंध बनाते हुए विद्यालय को परिवार माने और बच्चों को अपना श्रेष्ठ ज्ञान देते हुए कार्य करें तो विद्यालय और संकुल का नाम रोशन होगा। कार्यक्रम में सेवा निवृत्त प्रधान पाठिका श्रीमती ऊषा रानी वर्मन को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन व्याख्याता श्रीमती प्रियंका श्रीवास्तव ने किया।इस अवसर पर हायर सेकंडरी स्कूल बुंदेली, बंजी,पाराडोल, के शिक्षक शिक्षिकाओं की उपस्थिति प्रशंसनीय थी।


Ghoomata Darpan

Ghoomata Darpan

घूमता दर्पण, कोयलांचल में 1993 से विश्वसनीयता के लिए प्रसिद्ध अखबार है, सोशल मीडिया के जमाने मे आपको तेज, सटीक व निष्पक्ष न्यूज पहुचाने के लिए इस वेबसाईट का प्रारंभ किया गया है । संस्थापक संपादक प्रवीण निशी का पत्रकारिता मे तीन दशक का अनुभव है। छत्तीसगढ़ की ग्राउन्ड रिपोर्टिंग तथा देश-दुनिया की तमाम खबरों के विश्लेषण के लिए आज ही देखे घूमता दर्पण

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button